Thursday, June 22, 2017

Zindagi Kya Diya Tune Hindi Shayari On Life

Kabhi Kabhi Sochta Hun Ae Zindagi Tere Bare Mai
Kabhi Raaton Ke Andhere Mai Kabhi Din Ke Ujale Mai
Sochta Hun Kya Diya Hai Mujhe Tune
Manjile To Bas Sapna Reh Gayi
Raste Mile Wo Bhi Sune Sune

कभी कभी सोचता हूँ ऐ ज़िन्दगी तेरे बारे मे
कभी रातों के अँधेरे मैं कभी दिन के उजाले मे
सोचता हूँ क्या दिया है मुझे तूने
मंजिले तो बस सपना रह गयी
रास्ते मिले वो भी सुने सुने

Pehli Barish Hindi Love Shayari

Teri Meri Dosti Ki Pehli Barish Hai Ye
Shayad Mohabbat Ki Nai Shajish Hai Ye

Dhadkta Hai Yeh Dil
Jab Kadakti Hai Bijliyan Barste Hai Ye Badal

Darta Hun Kahi Tere Pyar Mai  Aaj Ye Dil
Ho Na Jaye Pagal

तेरी मेरी दोस्ती की पहली बारिश है ये
शायद मोहब्बत की नई साजिश है ये
धड़कता है यह दिल जब कड़कती है बिजलियाँ बरसते है ये बादल
डरता हूँ कही तेरे प्यार मे आज ये दिल हो न जाये पागल
Hindi Love Shayari


Wo Bachpan ki Yaad

Wo Bachpan ki Yaad
Wo Barish Ka Pani
Wo Din Bhar Ki Masti
Dadi Nani Ki Kahani
Bhool Kar Nahi Bhulati
Wo Anjaan Badmashiyan
Wo Garmi Ka Mausam
Wo Shame Suhani

बचपन की याद
वो बचपन की याद
वो बारिश का पानी
वो दिन भर की मस्ती
दादी नानी की कहानी
भूल कर नहीं भूलती
वो अनजान बदमाशियाँ
वो गर्मी का मौसम
वो शामे  सुहानी
Hindi Shayari on Bachpan/Childhood

Dosti Ko Salam

Ae Dost Teri Dosti Ko Salam
Jeena Sikhaya Teri Dosti Ne
Diya Naya Aayam
Jab Bhi Manga Ae Dost Tujh Se Sath Maine
Be Jijhak Aage Badha Tu Soche Bina Koi Anjam

दोस्ती को सलाम

ऐ दोस्त तेरी दोस्ती को सलाम
जीना सिखाया तेरी दोस्ती ने दिया नया आयाम
जब भी मांगा ऐ दोस्त तुझ से साथ मैंने
बे झिझक आगे बढ़ा तू सोचे बिना कोई अंजाम




Dar Ke Aage Jeet Hai

डर के आगे जीत है


हर डगर पर तुम्हारी परीक्षा होगी
हर मोड़ पर तुम्हे परेशानियाँ मिलेगी
पर डर कर कदम पिछङे न रखना ऐ दोस्त 
डर के आगे जीत है 
जीत तेरी ही होगी

Dar Ke Aage Jeet Hai

Har Dagar Par Tumhari Pariksha Hogi
Har Mod Par Tumhe Preshaniyan Milegi
Par Dar Kar Kadam Pichne Na Rakhna Ae Dost
Dar Ke Aage Jeet Hai
Jeet Teri Hi Hogi

Zindagi Ka Saar Hindi Shayari On Life

Zindagi Har Pal Kuch Naya Sikhati Hai
Kabhi Hasati To Kabhi Rulati Hai
Har Dukh Musibat Ko Piche Chod
Aage Badhna
Sayad Yehi Zindagi Kehlati Hai

ज़िंदगी का सार 

जिंदगी हर पल कुछ नया सिखाती है
कभी हसाती तो कभी रुलाती है
हर दुःख मुसिबत को पीछे छोड़ आगे बढ़ जाना
शायद यही ज़िंदगी कहलाती है

Wednesday, June 21, 2017

Tujhe Dekhne Ki Adat Romantic Shayari


Tujhe Dekhne Ki Adat Si Ho Gyi Hai
Tujhe Paa Lene Ki Chahat Si Ho Gyi Hai
Jis Din Na Ho Tera Didar O Sanam
Sach Kehta Hu Lagta Hai Zindagi Kahi Kho Si Gayi Hai

तुझे देखने की आदत

तुझे देखने की आदत सी हो गयी है 
तुझे पा लेने की चाहत सी हो गयी है 
जिस दिन न हो तेरा दीदार ओ सनम 
सच कहता हु लगता है 
ज़िन्दगी कहीं खो सी गयी है

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...